एक माह तक चलने वाले प्रसिद्ध श्रावणी मेले का उद्घाटन आज करेंगे उप मुख्यमंत्री Other, बिहार

विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेले का उद्घाटन शुक्रवार को बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी सुल्तानगंज में करेंगे। तीन बजे दिन में आयोजित उद्घाटन समारोह में बिहार सरकार के सात मंत्री भी शामिल होंगे। प्रशासन ने तैयारी पूरी होने का दावा किया है। उपमुख्यमंत्री और राजस्व व भूमि सुधार मंत्री हेलिकॉप्टर से सुल्तानगंज पहुंचेंगे। अन्य मंत्रियों के सड़क मार्ग से आने की सूचना है।

उद्घाटन समारोह नयी सीढ़ी घाट में आयोजित किया जाएगा। समारोह में केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे, जल संसाधन सह जिले के प्रभारी मंत्री राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह, पथ निर्माण मंत्री नंद किशोर यादव, राजस्व व भूमि सुधार मंत्री राम नारायण मंडल, पर्यटन मंत्री प्रमोद कुमार, कला संस्कृति व युवा विभाग के मंत्री कृष्ण कुमार ऋषि, नगर विकास व आवास विभाग के मंत्री सुरेश प्रसाद शर्मा और पीएचईडी मंत्री विनोद नारायण झा शामिल होंगे।

प्रशासन ने समारोह में शामिल होने के लिए सांसद जयप्रकाश नारायण यादव, राज्यसभा सांसद कहकशां परवीन, सांसद शैलेश कुमार उर्फ बुलो मंडल, जमुई के सांसद चिराग पासवान के अलावा विधायक सदानंद सिंह, सुबोध राय, गोपाल मंडल, अजय कुमार मंडल, अजीत शर्मा, वर्षा रानी, रामविलास पासवान, मेवालाल चौधरी, एमएलसी डॉ. एनके यादव, मनोज यादव, डॉ. संजीव कुमार सिंह, जिला परिषद अध्यक्ष अनंत कुमार और नगर परिषद सुल्तानगंज की सभापति दयावती देवी को आमंत्रित किया है।

विकास आयुक्त, प्रमंडलीय आयुक्त, डीएम सहित अन्य अधिकारियों ने गुरुवार को श्रावणी मेला की तैयारी का निरीक्षण किया। नयी सीढ़ी घाट पर उद्घाटन समारोह के लिए भव्य पंडाल बनाया जा रहा है। 27 जुलाई से 27 अगस्त तक के लिए मेला परिसर और कांवरिया पथ में मजिस्ट्रेट और पुलिसकर्मियों की प्रतिनियुक्ति की गयी है। श्रावणी मेले को राजकीय मेला का दर्जा मिलने के बाद पहला उद्घाटन समारोह है।

घाट किनारे से चौकियों को हटाने का निर्देश: विकास आयुक्त
विकास आयुक्त शशि शेखर शर्मा ने अन्य अधिकारियों के साथ गुरुवार को सुल्तानगंज में श्रावणी मेले की तैयारी का निरीक्षण किया। उन्होंने बताया कि घाट के किनारे काफी संख्या में चौकियां पड़ी हुई हैं। इससे कांवरियों को घाट पर स्नान करने में परेशानी हो रही है। डीएम को तत्काल चौकियों को हटाने का निर्देश दिया गया है। घाट के आसपास चौकी नहीं लगायी जाएगी। गंगा में बैरिकेडिंग को बढ़ाने का निर्देश दिया गया है। सीसीटीवी,नियंत्रण कक्ष को बेहतर बनाने को कहा गया है।

Leave a Reply