BREAKING NEWS

DHADAK REVIEW:ऑनर किलिंग की कमजोर कहानी, उम्मीद पर खरे नहीं उतरे जाह्नवी-ईशान

33

शाहिद कपूर के भाई ईशान खट्टर और श्रीदेवी की बेटी जाह्नवी कपूर की फिल्म धड़क आज सिनेमाघरों पर रिलीज हो गई। सभी की नजर जाह्नवी और ईशान पर टिकी है। फैंस जाह्नवी को बड़ी स्क्रीन पर देखने के लिए काफी बेताब नजर आ रहे हैं। फिल्म की फर्स्ट डे ओपनिंग पर भी फैंस और ट्रेड एक्सपर्ट टकटकी लगाए बैठे हैं। लेकिन फिल्म की कहानी दमदार नहीं है। ऑनर किलिंग की वही पुरानी कहानी को नए कलाकारों के साथ पेश किया गया है। वहीं, न्यूकमर होने के कारण जाह्नवी और ईशान अपने एक्टिंग से कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाए हैं।

फिल्म की कहानी राजस्थान के उदयपुर से शुरू होती है। जहां आशुतोष राणा एक हवेली होटल के मालिक हैं और जाह्नवी उनकी लाडली बेटी दिखाई गई है। फिल्म मराठी फिल्म सैराट का रीमेक है और इसलिए आर्ची की तरह धड़क में जाह्नवी को थोड़ा बोल्ड लुक देने की कोशिश की गई है। बाइक चलाना, लड़कियां के गैंग के साथ चलना, लड़कों पर हुकुम चलाना आदि, लेकिन जाह्नवी पर ये अंदाज कुछ सूट नहीं किया। वहीं ईशान के पिता एक छोटे से रेस्तरां के मालिक हैं और ईशान पढ़ाई के साथ-साथ उसी में उऩकी मदद करता है। बाहर से आने वाले ट्यूरिस्ट को उदयपुर की सैर करता है। फिल्म का फर्स्ट हॉफ काफी स्लो है। शुरुआत के डेढ़ घंटे ईशान जाह्नवी को इंप्रेस करने में ही निकाल देता है।

फिल्म का सेकेंड हॉफ एक कहानी के साथ खड़ा होता है। ईशान और जाह्नवी के संघर्ष को दिखाता है और वहीं आज भी गावों में चली आ रही ऑनर किलिंग की कहानी को बयां करता है। फिल्म का अंत एक चुप्पी के साथ होता है।

फिल्म के म्यूजिक ने रिलीज से पहले ही लोगों को इंप्रेस कर दिया था। म्यूजिक अच्छा है। फिल्म का सेट और लोकेशन कुछ खास नहीं है। डायरेक्शन में थोड़ी कमी है। फिल्म में सेट और लोकेशन को काफी अच्छे से इस्तेमाल किया जा सकता था, जो कि एक कमी खली है। जाह्नवी के कॉस्ट्यूम और ड्रेसिंग सेंस दर्शकों को इंप्रेस करने में सफल रहे हैं। जाह्नवी फिल्म में बहुत ही खबूसूरत लग रही हैं। इस मामले में जाह्नवी ने श्रीदेवी को पूरी तरह से टक्कर दी है।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *