मिड-डे मील खाने से 140 स्कूली बच्चे बीमार, जांच में मिली मरी छिपकली बिहार

सदर प्रखंड के उत्क्रमित मध्य विद्यालय गोंसाई टोला में गुरुवार की दोपहर एमडीएम खाने से 140 बच्चे बीमार हो गये। आनन- फानन में सभी बच्चों को सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया। एमडीएम में छिपकली गिरने से भोजन विषाक्त होना बच्चों के बीमार होने का कारण बताया गया है। डॉक्टरों ने बीमार बच्चों की स्थिति खतरे से बाहर बतायी है।

उत्क्रमित मध्य विद्यालय गोंसाई टोला में गुरुवार की दोपहर सभी बच्चे एमडीएम खाने के लिए एक साथ बैठे थे। खाने के दौरान ही एक बच्चे को प्लेेट में सब्जी के साथ मरी हुई छिपकली मिली। तबतक अधिकांश छात्र खाना खा चुके थे। छिपकली मिलने के बाद कई छात्रों को सिरदर्द तो कई को उल्टी होने लगी। बच्चों के बीमार होने की सूचना मिलते ही ग्रामीण भी स्कूल पहुंचने लगे। इसके बाद सभी छात्रों को सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया।

वहां दो दर्जन छात्रों को स्लाइन चढ़ाने के साथ ही दवा भी दी गयी। एक छात्र मोहम्मद की हालत गंभीर होने के कारण उसे ऑक्सीजन चढ़ाया गया। बाद में एसडीएम वृंदालाल, डीईओ उग्रेश प्रसाद मंडल आदि अधिकारियों ने अस्पताल पहुंच कर बच्चों की स्थिति और इलाज की जानकारी ली। देर शाम साढ़े छह बजे स्थिति में सुधार होने पर बच्चों को अस्पताल से घर भेज दिया गया।

एचएम सस्पेंड, रसोइया चयन मुक्त
वहीं इस मामले को लेकर डीएम नवदीप शुक्ला ने तत्काल प्रभाव से उत्क्रमित मध्य विद्यालय गोंसाई टोला के हेड मास्टर को निलंबित और रसोइया को चयनमुक्त कर दिया है। डीएम ने इस मामले की जांच के लिए तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया है। जांच की जिम्मेदारी वरीय उपसमाहर्ता अलामा अख्तर, एमडीएम डीपीओ केएन सादा और सदर अस्पताल के डीएस डॉ. अखिलेश कुमार को सौंपी गयी है। टीम को जांच कर रिपोर्ट जल्द देने को कहा है।

सदर अस्पताल में गुरुवार को भर्ती हुए एमडीएम खाने से बीमारी बच्चे और इलाज करते स्वास्थ्यकर्मी

Leave a Reply