Category Archives: उपभोक्ता संरक्षण

असम के आकाश पर नई आशंकाएं Other, उपभोक्ता संरक्षण

एक लंबी और जटिल प्रक्रिया से गुजरते हुए उच्चतम न्यायालय की देख-रेख में असम के लिए राष्ट्रीय नागरिक पंजी के अद्यतन का काम पूरा हो गया है और सोमवार को इसकी अंतिम मसौदा सूची प्रकाशित की गई। इसे असम के लिए ऐतिहासिक दिन बताया जा रहा है। करीब 3.29 करोड़ लोगों ने आवेदन दिया था,

Read more

भूख से मरी बच्चियों की याद में Other, उपभोक्ता संरक्षण

शिखा, मानसी और पारुल के नाम आजाद भारत का इतिहास यकीनन अपने पन्नों में दर्ज नहीं करेगा। उसे सिर्फ नायकों, खलनायकों और विदूषकों का लेखा-जोखा रखने की बुरी आदत है। आप सोच रहे होंगे कि रविवार की सुबह मैं किन लोगों की राम कहानी लेकर बैठ गया। बता दूं, दिल्ली के मंडावली इलाके में ये

Read more

महागठबंधन की गांठें और बंधन Other, उपभोक्ता संरक्षण

पिछले दिनों कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी को आगामी आम चुनाव में कांग्रेस का चेहरा तो घोषित किया ही गया, साथ ही उन्हें भाजपा विरोधी महागठबंधन के गठन के लिए भी अधिकृत किया गया। यानी अब महागठबंधन खड़ा करने की पूरी प्रक्रिया में राहुल गांधी केंद्रीय स्थिति में होंगे। कांग्रेस कार्यसमिति

Read more

मतदान से पहले फौज की जीत तय Other, उपभोक्ता संरक्षण

पाकिस्तान आज अपनी नई पार्लियामेंट को चुनने जा रहा है। ऊपरी तौर पर तो यह चुनाव 2008 के बाद दूसरी बार वहां लोकतांत्रिक तरीके से सत्ता के हस्तांतरण का संकेत दे रहा है और अहम यह भी है कि पाकिस्तान की जम्हूरियत को पिछले एक दशक में किसी फौजी हस्तक्षेप का सामना नहीं करना पड़ा,

Read more

थमी हुई राजनीति के उलझे हुए दांव Other, उपभोक्ता संरक्षण, तमिल नाडु

इन दिनों तमिलनाडु की सभी मुख्य सड़कें गहमागहमी से भरी हैं, क्योंकि सूबे के रिटेल स्टोर भारी डिस्काउंट की घोषणाएं कर रहे हैं। हालांकि तमाम त्योहार-उत्सव अभी थमे हुए हैं, क्योंकि अभी आषाढ़ का महीना चल रहा है और इस महीने को अमांगलिक माना जाता है। आषाढ़ में कोई शादी नहीं होती। बरसात का मौसम

Read more

अमेरिकी धौंस और ब्रिक्स की भूमिका उपभोक्ता संरक्षण

दुनिया की अर्थव्यवस्था में ब्रिक्स देशों की भूमिका क्या बदलने वाली है? यह सवाल शुक्रवार को खत्म हुए ब्रिक्स के 10वें शिखर सम्मेलन के बाद कहीं ज्यादा प्रासंगिक हो गया है। इस संगठन के सभी सदस्य देशों (ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका) की गिनती उभरती आर्थिक ताकतों में होती है और इन्हें आर्थिक

Read more