Income Tax Return: आयकर विभाग से मिले नोटिस का ऑनलाइन ऐसे दें जबाव Other, व्यापार

आयकर रिटर्न में टैक्स गणना गलत भरने पर आयकर विभाग नोटिस भेजता है। इससे बचने के लिए रिटर्न फाइल करने से पहले एक बार घोषित आय और टैक्स देनदारी को जरूर जांच करनी चाहिए। अगर, इसके बाद भी  आयकर विभाग का नोटिस मिल है तो घबराना नहीं चाहिए। यह समझना चाहिए कि आयकर विभाग का काम ही करदाताओं के रिटर्न की जांच करना और गलत पाये जाने पर नोटिस भेजना है।  आप आसानी से नोटिस का जबाव ऑनलाइन दे सकते हैं।

धारा 143(1) से नोटिस 
इस धारा के तहत आपको तीन तरह का नोटिस मिल सकता है। 
1. यह आपकी ओर से फाइल किए गए रिटर्न का आखिरी आकलन हो सकता है। 
2. यह रिफंड नोटिस की तरह हो सकता है जिसमें आकलन अधिकारी की गणना के मुताबिक आपने ज्यादा टैक्स भरा है। 
3. यह एक डिमांड नोटिस हो सकता है जिसमें आकलन अधिकारी की गणना के मुताबिक आपने कम टैक्स भरा है। 

जवाब देने की समय सीमा 
अगर टैक्स बकाया है तो आपको 30 दिनों के अंदर देना होगा। 

क्या करें 
अगर रिटर्न में कोई विसंगति नहीं है, तो आपको कुछ भी करने की जरूरत नहीं है। वहीं, टैक्स देनदारी बनती है, तो आपको उसे 30 दिनों के भीतर भुगतान करना होगा। 

इस तरह ऑनलाइन दें जबाव 
1. आयकर विभाग की वेबसाइट https://incometaxindiaefiling.gov.in/ पर अपना यूजर आई (पैन), पासवार्ड और कैप्चा डालकर लॉगइन करें। 
2. ‘ई-फाइल’ टैब पर क्लिक करें और ‘बकाया कर मांग’ विकल्प का चयन करें।
3. आपके कम्प्यूटर स्क्रीन पर आकलन वर्ष का टैक्स डिमांड नोटिस, डिमांड नंबर, सबमिट व्यू, जारी करने की तिथि आदि दिखाई देगा। 
4. नोटिस का जबाव देने के लिए ‘सबमिट व्यू’ पर क्लिक करें। इस टैब पर क्लिक करने पर आपको चार ऑप्शन दिखाई देंगे। a) मांग सही है, b) मांग आंशिक रूप से सही है, c) मांग से असहमत, d) मांग सही नहीं है लेकिन सुधार के लिए सहमत है। 
5. जैसे ही आप सब-कैटेगरी को सलेक्टर करेंगे एक नया पेज खुलेगा। नए पेज में आप सब-कैटेगरी के सवाल का जबाव ऑनलाइन दें। कई सब-कैटेगरी में आपको संबंधित दस्तावेजों का विवरण भी देना होगा। 

नोटिस मिलने का मतलब आप दोषी नहीं 
आयकर विभाग से नोटिस मिलने का यह मतलब नहीं है कि आप दोषी हैं। आयकर रिटर्न फाइल करते वक्त छोटी सी गलती की वजह से भी नोटिस भेजा जा सकता है। कई बार आप मूलभूत जानकारी नहीं देते या भूल जाते हैं, नोटिस उस वजह से आ सकता है। इस तरह के मामलों में सिर्फ वह जानकारी उपलब्ध कराने से ही आप नोटिस का जवाब दे देते हैं। 

Leave a Reply