BREAKING NEWS

ब्रिटेन कोर्ट में विजय माल्या के प्रत्यर्पण का केस अंतिम चरण में पहुंचा

41

बैंकों का हजारों करोड़ रुपये कर्ज नहीं चुकाने वाले शराब कारोबारी विजय माल्या प्रत्यर्पण मामले में अंतिम सुनवाई के लिए मंगलवार को लंदन स्थित वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत में हाजिर होंगे। न्यायाधीश एम्मा इस मामले में फैसले के लिए तारीख तय करेंगी। किगफिशर एयरलाइंस के पूर्व मुखिया माल्या भारत को उनके प्रत्यर्पण के खिलाफ ब्रिटेन की अदालत में कानूनी लड़ाई लड़ रहे हैं।

पिछले साल अप्रैल में गिरफ्तारी के बाद से माल्या जमानत पर हैं। इस मामले में भारतीय एजेंसियों का पक्ष रख रही क्राउन प्रॉसीक्यूशन सर्विस (सीपीएस) के प्रवक्ता ने कहा, वरिष्ठ डिस्ट्रिक्ट न्यायाधीश (एम्मा अर्बुथनाट) मंगलवार को मामले में अंतिम सुनवाई करेंगी।

फैसले को आगे की तारीख के लिए सुरक्षित रखा जाएगा। पिछली सुनवाई (27 अप्रैल) के दौरान केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई को उस समय बड़ी कामयाबी मिली थी जब न्यायाधीश अर्बुथनाट ने मामले में भारतीय एजेंसियों द्वारा पेश सबूतों को स्वीकार किया था।

भारत आने, कानून का सामना करने को तैयार है विजय माल्या?

विजय माल्या भारत आने तथा कानून का सामना करने को तैयार है? आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि माल्या ने भारतीय अधिकारियों को कुछ इसी तरह का संकेत दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक माल्या ने भारतीय अधिकारियों को संकेत दिया है कि वह भारत आने और कानूनी प्रक्रिया का सामना करने को तैयार है। 

साथ ही माल्या ने भगोड़ा आर्थिक अपराधी अध्यादेश के तहत उसके खिलाफ की गई कार्रवाई को चुनौती देने का भी संकेत दिया है। देश से भागे भगोड़े अपराधियों की सम्पत्ति जब्त करने के संबंध में हाल में जारी अध्यादेश के तहत सरकार माल्या की देश और विदेश में सभी संपत्तियां जब्त कर सकती है।

जांच एजेंसियों के शीर्ष सूत्रों ने कहा कि माल्या के इस कदम के अंतिम तौर तरीके अभी स्पष्ट नहीं हैं। उन्होंने इस बारे में और ब्योरा देने से इनकार किया। प्रवर्तन निदेशालय ने 9,000 करोड़ रुपये के बैंक धोखाधड़ी मामले में भगोड़ा आर्थिक अपराधी अध्यादेश के तहत माल्या के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। उसके बाद विशेष पीएमएलए अदालत ने माल्या को समन किया था। केंद्रीय जांच एजेंसी ने इसके अलावा माल्या की करीब 12,500 करोड़ रुपये की संपत्तियों को तत्काल कुर्क करने की भी अपील की है। 




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *